सेकंड डोज नहीं लगवाने वालों पर शिकंजा: इंदौर कलेक्टर ने लिया निर्णय, शोरूम सील के साथ FIR भी होगी

इंदौर28 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

कोरोना के बढ़ते संक्रमण को लेकर एक बार फिर इंदौर में जिला प्रशासन सख्त होता जा रहा है। ऐसे लोग जिनकी ड्यू डेट निकल गई है और सेकंड डोज नहीं लगाया है। ऐसे मामलों में संस्थान सील करने के साथ ही एफआईआर भी दर्ज की जाएगी। बुधवार को जिला प्रशासन ने यह निर्णय लिया। इसके साथ ही कलेक्टर ने जनता से सावधानी और सतर्कता रखने की अपील की है।

दरअसल, बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर इंदौर जिला प्रशासन एक बार फिर चिंतित नजर आ रहा है। बीते कुछ दिनों से जिला प्रशासन, नगर निगम की टीमें संस्थानों पर कार्रवाई करते हुए उन्हें सील कर रही थी। अब ऐसे संस्थानों को सील करने के साथ ही एफआईआर भी दर्ज की जाएगी। कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए कलेक्टर मनीष सिंह ने इंदौर की जनता से कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करने की अपील की हैं।

उन्होंने कहा कि जिस तरह से देश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ रही है, वह चिंताजनक है। ऐसे समय में सावधानी और सतर्कता रखना जरूरी है। संक्रमण से बचने के लिए वैक्सीनेशन महत्वपूर्ण उपाय है। सेकंड डोज लग जाने से कोरोना संक्रमण का प्रभाव कम होगा।

एक भी कर्मचारी बिना वैक्सीन के मिला तो भी कार्रवाई
कलेक्टर ने कहा सभी व्यावसायिक संस्थानों के संचालकों को निर्देश दिए गए हैं कि वे अनिवार्य रूप से अपने सभी कर्मचारियों का वैक्सीनेशन करवा लें। अगर एक भी कर्मचारी बिना वैक्सीनेशन के मिलता है, तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। ऐसे संस्थान जिनके कर्मचारियों को वैक्सीन का सेकंड डोज नहीं लगा है, उनके संस्थान को सील किया जाएगा। वहीं, उनके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कराई जाएगी।

जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों ने किया निरीक्षण

जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों ने किया निरीक्षण

48 अस्पतालों के ऑक्सीजन प्लांट चाक चौबंद
इधर, मंत्री तुलसी सिलावट, विधायक महेंद्र हार्डिया, विधायक आकाश विजयवर्गीय सहित कलेक्टर-कमिश्नर ने इंदौर के दो बड़े सरकारी अस्पतालों सुपर स्पेशलिटी और पीसी सेठी सहित अन्य अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट का निरीक्षण किया और ऑक्सीजन प्लांट चालू करके भी देखा। मंत्री सिलावट का कहना है कि जिले में ऑक्सीजन की पर्याप्त व्यवस्था है।

वहीं, पीसी सेठी अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट के निरीक्षण में पता चला कि अभी 85 प्रतिशत गुणवत्ता मिल रही है। इसे लेकर कलेक्टर ने निर्देश दिए हैं कि इसकी गुणवत्ता को बढ़ाकर 90 प्रतिशत से ऊपर की जाए। कलेक्टर ने कहा जिले में निजी और सरकारी 48 अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांटों की स्थापना की गई है। लगभग सभी प्लांट शुरू हो गए हैं। एक या दो प्लांट में कुछ काम बाकी है, वह भी जल्द शुरू हो जाएंगे।

खबरें और भी हैं…

Source link

CofaNews

All Hindi News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *