क्या शाहरुख खान 15 दिसंबर से दीपिका पादुकोण और जॉन अब्राहम के साथ ‘पठान’ की शूटिंग करेंगे?

AP ICET 2021 Counselling begins, registration closes on December 10

bjp: Punjab polls 2022: अमरिंदर ने कहा बीजेपी के साथ सीट एडजस्टमेंट, सुखदेव सिंह ढींडसा की पार्टी जल्द होगी |

Tata Power and IIT-Madras collaborate on R&D and campus recruitment opportunities – Cofa News

खास बातचीत: वॉइस आर्टिस्ट राजेश कवा बोले-‘स्क्विड गेम 2’ पर काम शुरू, लीड कैरेक्टर की अवाज के लिए मैंने ‘मुन्ना भाई’ के सर्किट का लिया रेफरेंस

मामला खुदाई में मिली मूर्ति का: इंदौर से आए समाजजन बाेले – भगवान आदिनाथ की मूर्ति, धार-राजगढ़ वालों ने कहा – तीर्थंकर नेमीनाथ की है प्रतिमा

0 0
0 0
Read Time:3 Minute, 52 Second

  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Dhar
  • The People Of The Society Who Came From Indore The Idol Of Lord Adinath, The People Of Dhar Rajgarh Said The Idol Of Tirthankar Neminath Is

धार20 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • तहसीलदार की टीम ने थाने से मूर्ति भिजवाई मांडू

सादलपुर थाना क्षेत्र के बिजूर गांव में मंदिर के समीप निर्माण खुदाई के दौरान ध्यान मुद्रा में प्रतिमा की ग्रामीणों ने मंदिर में रखकर पूजन शुरू कर दिया। हालांकि रविवार को श्वेतांबर और दिगम्बर समाज के लोग इंदौर और धार-राजगढ़ से बिजूर गांव पहुंचे। दिगम्बर समाज से प्रतिमा को भगवान आदिनाथ की बताई, तो श्वेतांबर ने प्रतिमा पर अंकित चित्रों को शंख और वृषभ बताते हुए इसे तीर्थंकर नेमीनाथ की प्रतिमा बताया।

धार श्री संघ की और से अनिल छाजेड़ और राजगढ़ में मोहनखेड़ा ट्रस्ट की और से संतोष नेताजी बिजूर पहुंचे थे। ये प्रतिमा को मोहनखेड़ा तीर्थ ले जाना चाहते थे, हालांकि ग्रामीणों ने इसे मंदिर में ही पूजन करने की बात कही। इधर, इंदौर के बेटमा से भी दिगम्बर समाज से जुड़े लोग बिजूर पहुंचे थे। इन्होंने भी प्रतिमा को देखा है।

हमें मालूम है पूजन पद्धति
शनिवार को प्रतिमा मिलने की सूचना सार्वजनिक होने के बाद इसे लोगों ने गौतम बुद्ध की प्रतिमा बताया। इधर, सूचना के बाद लोग इंदौर-राजगढ़ से बिजूर पहुंच गए, लेकिन दूसरे दिन सुबह तक राज्य पुरातत्व विभाग और प्रशासन की और से कोई अधिकारी नहीं पहुंचा। प्रतिमा करीब 800 वर्ष पुरानी बताई जा रही है। इसकी तिथि भी अंकित है। जहां प्रतिमा मिली है, उस गांव में एक भी जैन परिवार नहीं है। इसके बावजूद ग्रामीणों ने प्रतिमा को साफ करने के साथ उसके समक्ष दीपक प्रज्जवलित किए।

अनुमान है कि 800 वर्ष के बीते वर्षों के दौरान इस क्षेत्र में जो भी परिस्थितियां निर्मित हुई होगी, उसके कारण पाषाण की यह प्रतिमा भूमि के भीतर जमींदोज हो गई थी। गांव में पहुंचे लोगों ने ग्रामीणों से समाज के तीर्थंकर की प्रतिमा होने की जानकारी देने के साथ प्रतिमा ले जाने की बात कही। उन्होंने बताया कि जैन समाज के लोग विधिवत प्रतिमा की पूजा पद्धति करते हैं। प्रतिमा खंडित है, किंतु इसे मोहनखेड़ा में सुरक्षित और संरक्षित रखा जा सकता है।

धार तहसीलदार का कहना है कि जैन समाज के लोग प्रतिमा को ले जाने की मांग कर रहे थे। हमने गांव पहुंचकर उन्हें शासन के नियमों की जानकारी दी है। उनसे कहा है कि इस प्रतिमा की मांग को लेकर आप अपनी कार्रवाई कर सकते हैं। प्रशासनिक स्तर पर इसे पुरातत्व विभाग को सौंपा जाएगा। प्रतिमा को थाने लाया गया था। जहां से उसे सुरक्षित मांडू में भिजवा दिया गया है।

खबरें और भी हैं…

Source link

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

English English Hindi Hindi