भास्कर इंटरव्यू: रामानंद सागर की पड़पोती साक्षी चोपड़ा बोलीं- मैंने अपनी लव लाइफ में बहुत दर्द सहा है, डिप्रेशन का शिकार भी हुई

2 दिन पहलेलेखक: किरण जैन

  • कॉपी लिंक

रामायण’ जैसा सुपर हिट शो बनाने वाले रामानंद सागर की पड़पोती साक्षी चोपड़ा म्यूज़िक में अपना करियर बनाना चाहती हैं। साक्षी ने 10 साल की उम्र से ही वेस्टर्न वोकल में ट्रेनिंग ली और 18 साल की उम्र में लंदन के ट्रिनिटी कॉलेज से रॉक एंड पॉप में 8 साल की डिग्री हासिल की है। अब वे अपना पहला म्यूजिक एल्बम लॉन्च करने की तैयारी में जुट चुकी हैं।

हाल ही में दैनिक भास्कर से खास बातचीत के दौरान, साक्षी ने बताया कि उनका पहला एल्बम उनकी लव लाइफ से जुड़ा है। रियल लाइफ में उन्होंने रिलेशनशिप में काफी दर्द सहा है। अपने इसी अनुभव को वे अपने म्यूजिक के जरिए लोगों तक पहुंचाना चाहती हैं। बातचीत के दौरान, उन्होंने खुद को डिप्रेशन का शिकार होने की बात भी बताई और रामानंद सागर परिवार से होने के दबाव के बारे में भी खुलकर बात की।

संगीत से अपनी सोच दुनिया तक पहुंचाना चाहती हूं
9 साल की उम्र से ही मैं सिंगर बनने का सपना देखा करती थी, हर बार बस यही सोचती की मेरा अपना अल्बम कब रिलीज़ होगा। आख़िरकार अब मैं खुद को अपने सपने के करीब देख पा रही हूं। मैं तैयार हूं, दुनिया को दिखाने के लिए कि मैं क्या हूं और क्या सोचती हूं। मेरे म्यूजिक का जॉनर पॉप और आर एंड बी है। संगीत के जरिये अपनी सोच को दुनिया तक पहुंचाने के लिए बहुत उत्साहित हूं।

मैंने अपनी लव लाइफ में बहुत दर्द सहा है
मैंने अपने रिलेशनशिप में कई उतार चढ़ाव देखे हैं। जब-जब ब्रेक अप होता बहुत दर्द होता था। कई बार ऐसा लगता कि जिंदगी में कुछ बचा ही नहीं। आप किसी पर भरोसा करते हो और फिर वो आपका भरोसा तोड़ देता है, ये वाकई में बहुत दर्दनाक होता है। मैंने अपने लव लाइफ में बहुत दर्द सहा हैं और इसीलिए अपना पहला म्यूजिक एल्बम इस टॉपिक पर बनाने का सोचा। मैं चाहती हूं कि मेरा ये गाना टीन एजर्स को प्रेरित करे। उन्हें इस बात का आश्वासन देना चाहती हूं कि सिर्फ रिलेशनशिप ही सब कुछ नहीं है। यदि आपको प्यार में धोखा मिला है तो उससे ज़िंदगी की हार मत मानिये। मेरी रियल लाइफ के अनुभव पर ये पूरा एल्बम आधारित है।

मेरे पार्टनर में वफादारी-एडवेंचर जैसी क्वालिटीज़ होनी चाहिए
इस बात से इंकार नहीं करूंगी कि मैं अपनी लाइफ में डिप्रेशन का शिकार हो चुकी हूं। सुसाइड के विचार भी आते थे लेकिन अब मैं उस फेज से बाहर आ चुकी हूं। मेरे परिवार वालों ने मेरे इस फेज में बहुत मदद की, ख़ास तौर पर मेरी मां ने। उन्होंने मुझे बहुत सपोर्ट किया- मेंटली और इमोशनली। समय सभी घावों को भर देता है, है ना? मेरे साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। मैं फिर से प्यार में पड़ने के लिए तैयार हूं। बस मेरे पार्टनर में वफादारी और एडवेंचर जैसी क्वालिटीज़ होनी चाहिए।

किसी की नफरत मुझे तोड़ नहीं सकती
शुरुआत में रामानंद सागर परिवार से होने का दबाव होता था। लोग मुझे अपने परिवार वालों से तुलना करते थे। इन बातों से मैं बहुत दवाब महसूस करती थी। लोग मेरे सोशल मीडिया पर ट्रोल करते है। शुरूआती में इस बात का भी बहुत दबाव होता था लेकिन अब नहीं। सच ये हैं की मैं अपनी ज़िंदगी में अपने तरीके से जी सकती हु और मैं वही कर रही हूं। किसी की नफरत मुझे तोड़ नहीं सकती। अब कौन क्या कहता है, कौन मेरी तुलना किससे करता है, मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता। मेरा परिवार मुझ पर बहुत भरोसा करता है और मेरे लिए उनका भरोसा ही सब कुछ है।

कुछ लोग मुझे एक्टिंग में लाॅन्च करना चाहते है
बॉलीवुड से मुझे एक्टिंग के लिए भी ऑफर मिल रहे हैं, कुछ लोग हैं जो मुझे लाॅन्च करना चाहते हैं। हालांकि मेरा फोकस सिर्फ और सिर्फ सिंगिंग पर है। हां, यदि आने वाले दिनों में एक्टिंग से जुड़े किसी स्ट्रॉन्ग कंटेंट का हिस्सा बनने का मौका मिला तो इस बारे में ज़रूर सोचूंगी। सच कहूं तो मैं बॉलीवुड कंटेंट बिलकुल नहीं देखती और ना ही सुनती हूं। हमारा देश अंग्रेजी बोलने के मामले में दूसरे स्थान पर है, ऐसे में मुझे लगता है की इंग्लिश म्यूज़िक का यहां बहुत स्कोप है। मैं इसी में अपनी किस्मत आज़माना चाहती हूं।

खबरें और भी हैं…

Source by [author_name]

CofaNews

All Hindi News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *