खंडवा के बेटे को अतिविशिष्ट सेवा सम्मान: इंडियन एयरफोर्स में एयर मार्शल शशिकर चौधरी को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने किया सम्मानित; पीएम मोदी, राजनाथसिंह रहे मौजूद

  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • President Ram Nath Kovind Honored Air Marshal Shashikar Chaudhary In The Indian Air Force; PM Modi, Rajnath Singh Were Present

खंडवा (मध्यप्रदेश)14 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

इंडियन एयरफोर्स में एयर मार्शल शशिकर चौधरी को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने किया सम्मानित।

सोमवार को राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षामंत्री राजनाथसिंह की मौजूदगी में शौर्य, वीर चक्र सम्मान के अलावा भारतीय सेना के 26 लोगों को अतिविशिष्ट सम्मान दिया। इनमें खंडवा के शशिकर चौधरी (नंटू भैय्या) को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अतिविशिष्ट सेवा सम्मान से नवाजा है। चौधरी इंडियन एयरफोर्स के इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट में चीफ एयर मार्शल के पद पर कार्यरत है।

कर्मठता, कार्यकुशलता और प्रतिभा के चलते राष्ट्रपति रामनाथ काेविंद ने शशिकर चौधरी को अतिविशिष्ट सेवा सम्मान स्वरुप मेडल दिया। राष्ट्रपति भवन में आयोजित सम्मान समारोह में उनके साथ पत्नी अनिता चौधरी, बेटी अपूर्वा उपाध्याय मौजूद थी। सम्मान को लेकर खंडवा के पोरवाल दिगंबर जैन समाज में खुशी की लहर आ गई।

राष्ट्रपति भवन में सम्मान पाने वाले शशिकर चौधरी।

राष्ट्रपति भवन में सम्मान पाने वाले शशिकर चौधरी।

61 साल के चौधरी, 6 माह बाद रिटायरमेंट

खंडवा निवासी शशिकर चौधरी 61 साल के हो चुके है। 6 माह बाद 31 मई 2022 को वे रिटायर्ट होंगे। रिटायर्टमेंट के बाद वह सामाजिक गतिविधियों में भाग लेंगे। बेटा आभाष चौधरी नीदरलैंड में एविएशन इंजीनियर है। बेटी अपूर्वा उपाध्याय व दामाद बैंगलोर की इंफोसेस कंपनी में कार्यरत है।

शशिकर चौधरी का भारतीय युवा सेना में ऐसा रहा सफर

खंडवा के हरिंगज स्थित नेमीचंद चौधरी के यहां 17 मई 1962 काे शशिकर चौधरी का जन्म हुआ। पूरा बचपन हरिगंज की गलियों में गुजरा। शशिकर चौधरी ने हायर सेकंडरी तक की पढ़ाई खंडवा में ही पूरी की। 1984 में जीएसआईपीएस इंदौर से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में डिग्री कर इंडियन इयरफोर्स ज्वाइन की। यहां इंजीनियरिंग ब्रांच में फ्लाइट ऑफिसर के रुप सेवा शुरु की। विभाग द्वारा संचालित कई प्रतिष्ठित ट्रेनिंग करने के बाद आईआईटी खडगपुर से एमटेक किया।

इसके बाद मास्को में भारतीय दूतावास में तीन वर्ष तक डिप्टी अटैची रहकर सेवाएं दी। एयर कुमोडो के रुप में कोयंबटूर, एयर वाइफ मार्शल के पद पर रहकर तिरुवेंद्रम में कमांडिंग ऑफिसर के तौर पर कार्य किया। वर्तमान में 2020 से एयर मार्शल के पद एयरफोर्स की इंजीनियरिंग ब्रांच के प्रमुख के रुप में पदस्थ है।

शौर्य का सम्मान:पाकिस्तान का F-16 फाइटर जेट गिराने वाले ग्रुप कैप्टन अभिनंदन को वीर चक्र, तालियों से गूंजा राष्ट्रपति भवन

खबरें और भी हैं…

Source link

CofaNews

All Hindi News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *