डिलीवरी को गति देने के लिए अमेज़न ने नेटवर्क बनाया, हॉलिडे क्रंच को हैंडल किया

मिलिए पराग अग्रवाल से जो बने है ट्विटर के नए सीईओ

Star Health IPO : क्या आपको निवेश करना चाहिए? जानिए अभी

Omicron वैरिएंट के मरीजों के ऑक्सीजन स्तर में नहीं दिखी गिरावट

‘जो शीशे के घरों में रहते हैं…’: नवजोत सिंह सिद्धू ने चुनावी वादों को लेकर अरविंद केजरीवाल पर तंज कसा

कंगना अपनी बात पर अड़ीं: 2014 में मिली आजादी वाले बयान पर कंगना बोलीं- गलत साबित होने पर पद्मश्री लौटा दूंगी

0 0
Read Time:5 Minute, 13 Second

7 घंटे पहले

कंगना रनोट ने अपनी आजादी वाले विवादित बयान पर अपना बचाव किया। इंस्टाग्राम की स्टोरी में कंगना ने अपनी पूरी बात रखी है। जिसमें कंगना ने दावा किया कि अगर वो गलत साबित हुईं तो अपना पद्मश्री खुद ही लौटा देंगी। हाल ही में, एक टीवी चैनल पर आजादी को लेकर अपने बयान के बाद से कंगना कई लोगों के निशाने पर हैं, जिसमें उन्होंने कहा था कि 1947 में जो मिली वो भीख थी, असली आजादी 2014 में मिली है। इसे लेकर कांग्रेस सहित कई संगठन कंगना से पद्मश्री वापस लेने की मांग कर रहे हैं।

1947 में कौन सा युद्ध हुआ मुझे नहीं पता
एक्ट्रेस ने अपनी इंस्टाग्राम स्टोरीज पर एक किताब का पन्ना अंश शेयर किया है। इस पन्ने पर अरबिंदो घोष, बाल गंगाधर तिलक और बिपिन चंद्र पाल के कोट्स हैं, जिसमें कांग्रेस को लेकर उन्होंने अपनी बात कही है।

कंगना ने अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी में लिखा कि उसी इंटरव्यू (न्यूज चैनल को दिए गए इंटरव्यू) में सब कुछ बहुत स्पष्ट रूप कहा है। 1857 में स्वतंत्रता के लिए पहली सामूहिक लड़ाई शुरू हुई। पूरी लड़ाई में सुभाष चंद्र बोस, रानी लक्ष्मीबाई और वीर सावरकर जी जैसे महान लोगों ने बलिदान दिया। 1857 की लड़ाई मुझे पता है, लेकिन 1947 में कौन सा युद्ध हुआ था, मुझे पता नहीं है। अगर कोई मुझे बता सकता है तो मैं अपना पद्मश्री वापस कर दूंगी और माफी भी मांगूंगी…कृपया इसमें मेरी मदद करें।

कृपया जवाब खोजने में मेरी मदद करें
उन्होंने आगे लिखा, “मैंने शहीद वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की फीचर फिल्म में काम किया है… आजादी की पहली लड़ाई 1857 पर बड़े पैमाने पर रिसर्च की थी… राष्ट्रवाद के साथ राइट विंग का भी उदय हुआ… लेकिन अचानक खत्म क्यों हो गया? और गांधी ने भगत सिंह को क्यों मरने दिया? नेताजी बोस को क्यों मारा गया और गांधी जी का सपोर्ट उन्हें कभी क्यों नहीं मिला? एक गोरे (ब्रिटिश) ने पार्टीशन की लाइन क्यों खींची? स्वतंत्रता का जश्न मनाने के बजाय भारतीयों ने एक-दूसरे को क्यों मारा? कुछ जवाब जो मैं मांग रही हूं कृपया जवाब खोजने में मेरी मदद करें।

जैसा कि इतिहास है, अंग्रेजों ने बरबादी की हद तक भारत को लूटा है। दूसरे विश्व युद्ध के दौरान गरीबी और दुश्मनी के हालात में उनका भारत में रहना भी महंगा पड़ रहा था। लेकिन, वो जानते थे कि वो सदियों के अत्याचारों की कीमत चुकाए बगैर भारत से जा नहीं पाएंगे। उन्हें भारतीयों की मदद चाहिए थी। उनकी आजाद हिंद फौज के साथ छोटी सी लड़ाई ही हमें आजादी दिला सकती थी और सुभाष चंद्र बोस देश के पहले प्रधानमंत्री होते। क्यों आजादी को कांग्रेस के कटोरे में डाला गया गया? जब राइट विंग इसे लड़कर ले सकती थी। क्या कोई ये समझाने में मदद कर सकता है।

कंगना ने आगे लिखा कि मैं परिणाम भुगतने के लिए तैयार हूं। जहां तक ​​2014 में आजादी का संबंध है, मैंने विशेष रूप से कहा था कि भौतिक आजादी हमारे पास हो सकती है, लेकिन भारत की चेतना और विवेक 2014 में मुक्त हो गए थे.. पहली बार है जब अंग्रेजी न बोलने या छोटे शहरों से आने या भारत में बनी चीजों का उपयोग करने के लिए लोग हमें शर्मिंदा नहीं कर सकते… उस एक ही इंटरव्यू में सब कुछ साफ कहा है… लेकिन जो चोर हैं, उनकी तो जलेगी। कोई बुझा नहीं सकता… जय हिंद।

देश भर में हो रहा विरोध
वहीं आम आदमी पार्टी ने मुंबई पुलिस से उनके खिलाफ “देशद्रोही और भड़काऊ” बयान देने के लिए मामला दर्ज करने की मांग की है। भाजपा सांसद वरुण गांधी सहित कई राजनेताओं ने उनके बयान पर नाराजगी जताई है। देश भर में उनके बयान के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे हैं।

खबरें और भी हैं…

Source by [author_name]

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

English English Hindi Hindi