एमपी में स्कूल में ‘तैमूर’ की गुणवत्ता: खंडवा के प्राइवेट स्कूल जीके के इव्स में- और सैफ के नाम में टाइपो; पादरियों ने

खंडवा27 पहला

परिवार के खराब होने के कारण वे खराब हो गए और सैफ अली खान के ‘तैय्या’ को कभी भी फिट नहीं होने दिया। एमपी के खंडवा के निजी स्कूल ने बच्‍चों के साथ इप्‍लाब और सैफ अली खान के नामो? पर्यावरण के हिसाब से पढ़ाई के मामले में स्कूल की पढ़ाई करने के लिए।

स्थिति खंडवा के एकेड हाई पब्लिक स्कूल का है। टर् ️ टर्️ टर्️️️️️❤️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤ जब भी उन्हें चेक किया गया हो। पालक शिक्षक संघ के नेतृत्व में वह स्कूल शिक्षा से संबंधित थी। स्कूल के विरुद्घ करने की आदत।

महापुरुष, शहीदों का नाम पूछ रहा है

पालक शिक्षक संघ डॉ. अनीश अर्ज़रे का कहना है कि स्कूल के लिए प्रश्न पूछने वाले ही देश के महापुरुषों या शहीदों को पूछते हैं। यह भी ध्यान रखने योग्य है कि यह किस किस किस प्रकार का है।

नोट किया गया

जिला शिक्षा अधिकारी संजीव कुमार भालेराव ने कहा कि शिक्षक की स्थिति पर्यावरण पर लागू होती है। मौसम के अनुकूल होने के लिए

खबरें और भी…

.

Source by [author_name]

CofaNews

All Hindi News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *